जाने हाथ या पैर में 6 उँगलियों का होना शुभ होता है या अशुभ

637
छः उँगलियों

जैसाकि पता है की हर व्यक्ति के हाथों में 5 उँगलियाँ होती है परन्तु कई व्यक्ति ऐसे भी है। जिनके हाथ में एक उंगली ज्यादा होती है मतलब उनके हाथ में 6 उँगलियाँ होती है। आज हम इससे जुडी बातो के बारे में विस्तार से बताएंगे की आखिर क्या मतलब होता किसी व्यक्ति के हाथों में 6 उँगलियाँ होने का। क्योंकि अधिकतर लोग इस बात से अनजान है। अगर आप किसी व्यक्ति के हाथों में छः उँगलियों को दखते है तो आपको थोड़ा अजीब लगता होगा। इसके अलावा, आप यह भी सोचते होंगे की हाथ में छः ऊँगलियों को होना शुभ होता है या अशुभ।

शास्त्रों के अनुसार, हमारे शरीर के हर अंग की उपस्थिति का एक अलग ही महत्व होता है। इतना ही नहीं हिन्दू ज्‍योतिषीय के अनुसार कहा जाता है की यदि किसी व्यक्ति के हाथों में छः उँगलियाँ होती है तो वह व्यक्ति बहुत अधिक सौभाग्याशाली होता है। परन्तु आपको इस बात को जानकर हैरानी हो सकती है की किसी भी व्यक्ति के हाथ या फिर पैर में छः उँगली के होने का एक जेनेटिक डिसऑर्डर होता है जिसमे हम पॉलीडैक्टली के नाम से भी जान सकते है।

पॉलीडैक्टली डिसऑर्डर

हम आपको यह बताना चाहते है की किसी भी व्यक्ति के जीन में डीएनए के निम्न या अधिकतम होने का एक मुख्य कारण पॉलीडैक्टली डिसऑर्डर होता है। इतना ही नहीं इसे एक प्रकार का जेनेटिक कंडीशन को ग्रेग भी कहा जाता है। क्योंकि इसके होने से किसी भी व्यक्ति के हाथ व पैर की बनावट बदल जाती है। कहना का मतलब है की उनके हाथ या पैर में एक अधिक उँगली देखी जाती है। बच्चो को इसके होने की संभावना तब अधिक रहती है जब बच्चे के माता या पिता को भी इस डिस्ऑर्डर का सामना करना पड़ा हो।

वैसे हम आपको बता दें की अफ्रीकन मूल के निवासी में 500 में से हर एक इंसान को इस डिसऑर्डर का सामना करना पड़ता है। क्योंकि अफ्रीकन व्यक्तियों में ही हाथ या फिर पैरों में छः उँगलियाँ पाई जाती है।

छः उँगलियाँ होना होता है शुभ

शास्त्रों अनुसार यदि किसी व्यक्ति के हाथ या फिर पैर में छः उँगलियाँ होती है तो उसे शुभ माना जाता है। यदि छठी उँगली कनिष्ठिका उँगली की जुड़वा उँगली के रूप में हो तो। इसके अलावा, छठी अंगुली, अंगूठे के साथ जुड़ी हुई हो तो। क्योंकि शास्त्रों के अनुसार,  छठी उँगली का होना बहुत शुभ माना जाता है।

यदि हम मध्यकालिन योग की बात करे तो, यदि किसी व्यक्ति के हाथ में छः उँगली होती है तो उसे जादू-टोने, इंद्रजाल और मायावी के रूप में देखा जाता था। इतना ही नहीं उस समय के दौरान ऐसे व्यक्ति को विश्वास करने योगय भी नहीं माना जाता था। शाधेकर्ताओं के अनुसार, विश्व में 1 लाख बच्चों में से 50 बच्चे ऐसे होते है। इनके हाथ या फिर पैर में छः उँगलियाँ पाई जाती है।

जानवरों में पाई पाए जाते है पॉलीडैक्टल डिस्ऑर्डर

आपको यह बात जानकर हैरानी होगी की मनुष्य के साथ ही साथ जानवरों में भी कई ऐसी प्रजाति होती है जिनमे पॉलीडैक्टल डिस्ऑर्डर पाया जाता है। अपने देखा होगा की बिल्लियों के अगले पंजे में सामान्य तौर पर  पांच और पिछले पंजे में चार उँगलियाँ पाई जाती है लेकिन कई  बिल्लियां ऐसी भी होती है जिनके हाथ व पैर में बदलाव पाया जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here